Dhyan Samadhi / ध्यान समाधि

यह आध्यात्मिक संस्था ऐसे सभी जिज्ञासुओं के हित में लगी है जो विभिन्न मत मतांतरों से दीक्षा प्राप्त कर विभिन्न प्रकार के योग, कर्म, मंत्र, तंत्र, व्रत आदि कर चुके हैं तथा उनको फिर भी प्रभु प्राप्ति के नाम पर कुछ नही प्राप्त हुआ है । इस संस्था में विभिन्न धर्मों के मानने वाले साधक आध्यात्मिक उन्नति का लाभ उठा रहे हैं । यह संस्था साधक को जीते जी आध्यात्मिक उन्नति का अनुभव कराती है । संस्था के संस्थापक संत सद्गुरु श्री शिवानंद जी महाराज (परमहंस) का अपने व्यतिगत अनुभव के आधार पर मत है कि ध्यान अभ्यास तथा सद्गुरु के मार्गदर्शन व सद्गुरु कृपा के द्वारा ही साधक को कालातीत होकर स्थायी मुक्ति मिल सकती है । संत सद्गुरु श्री शिवानंद जी महाराज अपनी शिक्षाएं बड़े ही सहज व साधारण तरीके से पेश करते हैं लेकिन उनका अर्थ गूढ होता है जो कि प्रत्येक आत्मा को मानव जीवन के वास्तविक उद्देश्य का बोध कराती हैं । साधक ध्यान में प्रत्येक स्थिति में अपनी आध्यात्मिक उन्नति के स्तर को देखता रहता है एवं सद्गुरु कृपा के द्वारा समाधि का अनुभव करता है।